गुरुवार, 28 जून 2012

सिर्फ मुझे... संध्या शर्मा

 http://www.moviewalah.com/wp-content/uploads/2006/09/nimmi.jpg

तुम्हारे नयन
बोलते हैं
सुनाई देते
सिर्फ मुझे...

तुम्हारा आना
श्रावणी फुहार
भिगोती है
सिर्फ मुझे...

तुम्हारा साथ 
बसंत जैसे
महकाता है
सिर्फ मुझे...

तुम्हारा रूप
गुलमोहर
सजाता है
सिर्फ मुझे...

तुम्हारा जाना
रूठा चाँद
सताता है
सिर्फ मुझे...

हमारा मिलन
प्रीत लहर
डुबोती है
संग-संग... 

27 टिप्‍पणियां:

  1. शनिवार 30/06/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. आपके सुझावों का स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर भावमयी अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बेहतरीन प्रस्तुति,,,सुंदर रचना,,,,,

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: बहुत बहुत आभार ,,

    उत्तर देंहटाएं
  4. भावमयी अभिव्यक्ति...बहुत सुन्दर संध्या जी

    उत्तर देंहटाएं
  5. भावों का सहज सम्प्रेषण , भावों के विविध प्रसंगों को समेटे रचना ..!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत प्यारी रचना , बधाई आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  7. भाव विभोर करती सुन्दर प्रस्तुति.

    तुम्हारा आना
    श्रावणी फुहार
    भिगोती है
    सिर्फ मुझे...

    मेरे ब्लॉग पर आपके सुवचन
    श्रावणी फुहार ला देते हैं,संध्या जी.

    इन्तजार है आपका.

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्यार वाकई पोस्सेस्सिव होता है ..........सुन्दर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह ... अनुपम भाव लिए बेहतरीन प्रस्‍तुति

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर भावमय करते शब्द...
    कोमल अहसास लिए बहुत ही बेहतरीन रचना...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  11. कितनी सुंदर सी बात है

    तुम्हारा जाना
    रूठा चाँद
    सताता है
    सिर्फ मुझे...

    हमारा मिलन
    प्रीत लहर
    डुबोती है
    संग-संग... वाह !!

    उत्तर देंहटाएं
  12. कविता में जीवन के दृश्य आकार ले रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  13. क्या खुबसूरत.... वाह!
    सादर बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  14. भावनाओं की सरलता और तरलता मुग्ध कर गयी...

    उत्तर देंहटाएं
  15. हमारा मिलन
    प्रीत लहर
    डुबोती है
    संग-संग... वाह !!

    सुन्दर रचना!!!

    उत्तर देंहटाएं