मंगलवार, 27 जनवरी 2015

पुरानी ज़िद...


अक्षर अक्षर 
शब्द मेरे  
जानती नहीं 
कब हो गए 
भाव तुम्हारे  
इस सफ़र का
पता ही न चला 
करने लगे हो 
मेरे ही मन में 
खूब मनमानी 
और देखो न 
इठलाती इतराती
अल्‍हड़ बच्ची सी
मैं आज भी 
लगी रहती हूँ 
तुमसे अपनी 
हर बात मनवाने की 
उसी पुरानी ज़िद में
नई नई ज़िद लेकर....

10 टिप्‍पणियां:

  1. प्रीत पुरानी ही होती है...

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 29-01-2015 को चर्चा मंच पर चर्चा - 1873 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. मन बच्चा ही रहे जब तक अच्छा है ... चाहे प्रीत मे ही सही ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. और वही जिद जिलाये भी रखता है . बहुत सुन्दर रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत प्यारे और कोमल अहसास...बहुत सुन्दर रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" गुरुवार 7 जुलाई 2016 को में शामिल किया गया है।
    http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप सादर आमत्रित है ......धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं